doli

अल्मोड़ा: अल्मोड़ा जनपद के अंतर्गत न्याय पंचायत कलौटा के ग्रामीण आज भी सड़क मार्ग के अभाव में कठिन जीवन यापन करने को मजबूर हैं। पिछले 10 सालों से स्वीकृत चलमोड़ीगाडा-कलोटा मोटर मार्ग का निर्माण आज तक नहीं हो पाया है। बीते 9 जुलाई को स्थानीय निवासी दीपक सिंह बिष्ट ने ट्विटर पर एक विडियो शेयर किया है। जिसमे साफ देखा जा सकता है कि अल्मोड़ा के धौलादेवी ब्लॉक के ग्राम सभा ननौली की महिलाएं की महिलाएं एक बुजुर्ग बीमार महिला को इलाज के लिए अस्पताल तक पहुँचाने के लिए किस कदर डोली के सहारे मुख्य सड़क मार्ग तक ले जा रही हैं। बता दें कि पलायन की मार झेल रहे उत्तराखंड के अधिकांश गाँवों में नौजवानो को रोजगार के लिए बाहर जाना पड़ता है। ऐसे में गाँव में सड़क मार्ग न होने के कारण गर्भवती महिलाओं, बुजुर्ग अथवा बीमार लोगों को अस्पताल तक पहुंचाने के लिए गाँव से मुख्य सड़क मार्ग तक महिलाएं डोली से ले जाने को मजबूर हैं।

उक्त क्षेत्रीय समस्याओं को लेकर 12 राजस्व गाँवो द्वारा नवगठित समिति “ग्रामीण विकास जन सँघर्ष कमेटी” के सदस्यों ने जिलाधिकारी को एक ज्ञापन सौंपा। कमेटी ने सड़क के अभाव में गाँव की बेहद दर्दनाक और दयनीय हालात से DM को अवगत कराया। कमेटी के द्वारा अल्मोड़ा जिलाधिकारी, SDM, अधिशासी अभियंता, अधिक्षण अभियंता आदि को  ज्ञापन सौंपा गया। साथ ही जिलाधिकारी से ब्लाक स्तर पर बने हॉस्पिटल में एक अतिरिक्त डॉक्टर की व्यवस्था कर उसे आपात स्थिति में गाँव में तैनात करने का अनुरोध किया गया।

कमेटी अध्यक्ष केशवदत्त जोशी और संयोजक गिरीश चन्द्र जोशी ने बताया कि लोकनिर्माण विभाग की लापरवाही द्वारा चार बार टेंडरिंग करने और उसके बाद उन्हें निरस्त करने को लेकर कमेटी के पदाधिकारियों की अल्मोड़ा के जिलाधिकारी नितिन भदौरिया से चर्चा हुई। उन्होंने जिलाधिकारी से क्षेत्र के अन्य लंबित पड़े विकास कार्यों को भी जल्द पूरा करवाने का अनुरोध किया। जिलाधिकारी द्वारा समिति के सदस्यों को लंबित कार्यों को पूरा करवाने का आश्वासन दिया गया है।


यह भी पढ़ें:

बरसों पहले स्वीकृत चलमोड़ीगाड़ा-कलौटा मोटर मार्ग का निर्माण न होने से परेशान क्षेत्रीय जनता अब कानूनी लड़ाई को तैयार

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here