Junior-High-School-Teachers

देहरादून: उत्तराखंड राजकीय जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संगठन ने उच्चीकृत विद्यालयो के पृथक पृथक संचालन संम्बन्धी 2016 के आदेश निरस्त होने पर आंदोलन की रणनीति तैयार कर ली है। उल्लेखनीय है कि उत्तराखंड सरकार ने जूनियर और हाईस्कूल के अलग अलग संचालन को लेकर 14 नवंबर 2016 का आदेश 27 मई 2019 को निरस्त कर दिया है। जूनियर शिक्षक संघ का कहना है कि 14 नवंबर 2016 को जारी शासनादेश में प्रारंभिक शिक्षकों के पद एवं उनकी पदोन्नति को सुरक्षित किया गया था। लेकिन 27 मई 2019 के शासनादेश के जरिए उनके हितों की अनदेखी की जा रही है।

इसी को लेकर बीते मंगलवार को रेसकोर्स स्थित ट्रांजिट हॉस्टल सभागार में प्रदेशीय जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ के प्रांतीय कार्यकारिणी की आपात बैठक हुई। बैठक में शासनादेश निरस्त नहीं होने की दशा में 18 जून को शिक्षा निदेशालय पर धरना प्रदर्शन का निर्णय लिया गया। इसके बाद 25 जून को राजधानी के परेड ग्राउंड से सचिवालय तक महारैली निकाली जाएगी। जूनियर हाई स्कूल शिक्षक संघ पौड़ी के जिलाध्यक्ष कुंवर सिंह राणा और महामंत्री मुकेश काला ने जूनियर हाई स्कूल के समस्त शिक्षक/ शिक्षिकाओं से आवाहन किया है कि 10 जून को शासन को ज्ञापन देने के बाद आगामी 18 जून एवं 25 जून को अपनी जायज मांगों के लेकर होने वाली महा रैली के लिए अधिक से अधिक संख्या में पहुंचकर इस आंदोलन को सफल बनायें।

इस अवसर पर महामंत्री मुकेश काला ने कहा कि शासन हमेशा ही जूनियर शिक्षकों के साथ भेदभावपूर्ण रवया अपनाता है। जूनियर शिक्षक को कभी पृथक्करण, कभी विलिनीकरण, कभी समायोजन, कभी विद्यालय मे शिक्षको के मानकों की कमी के नाम पर, 17140/वेतनमान मैं सौतेला व्यवहार, जूनियर सहायक अध्यापक और जूनियर हाईस्कूल प्रधानाध्यापक की पदोन्नति के अवसर तो कभी स्थानांतरण एक्ट आदि के नाम पर छलावा करता आया है। अब हम सब की जिम्मेदारी बनती है कि जूनियर शिक्षको के साथ हो रहे इस अन्याय के खिलाफ बढ़चढ़कर हिस्सा लेकर  अपनी शक्ति का अहसास करायें और इस आंदोलन को सफल बनायें।

जिलाध्यक्ष कुंवर सिंह राणा, जिलामहामंत्री मुकेश काला, जिला कोषाध्यक्ष संजय केडियाल, वरिष्ठ उपाध्यक्ष जयचन्द्र आर्य, सयुँक्त मंत्री सतीश कुमार, समस्त ब्लाक अध्यक्ष सौर मंत्री एवं समस्त ब्लाक कार्यकरिणी जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ पौडी उत्तराखण्ड।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here