leopard-attack-woman

कोटद्वार : पौड़ी गढ़वाल के बीरोंखाल ब्लॉक के देवकुंडई गांव में रविवार शाम को अपनी माँ के साथ घर के पास गौशाला में गए एक 8 साल के मासूम बच्चे को तेंदुए ने मौत के घाट उतार दिया। यह घटना उसी बहादुर बच्ची राखी रावत के गांव देवकुंडई की है। जिसने बड़ी बहादुरी से अपने छोटे भाई को तेंदुए के चंगुल से बचाया था।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक बीरोंखाल ब्लॉक के देवकुंडई गांव में रविवार शाम करीब छह बजे बलवंत सिंह रावत की पत्नी ज्योति देवी घर से कुछ दूर स्थित गोशाला में दूध दुह रही थी। उनका नौ वर्षीय बेटा अंकित गौशाला के पास ही में खेल रहा था। तभी घात लगाकर बैठे तेंदुए ने अचानक अनिकेत पर हमला कर दिया। बच्चे के चिल्लाने पर मां ज्योति देवी गोशाला से बाहर की ओर भागी और  चिल्लाने लगी। मां के चिल्लाने की आवाज सुनकर तेंदुआ बच्चे को छोड़कर भाग गया, परन्तु तब तक मासूम ने दम तोड़ दिया। बच्चे की मौत से पूरे क्षेत्र में दहशत फैल गई है। अंकित दो बहनों का इलौता भाई था और वह राजकीय प्राथमिक विद्यालय भैंसवाड़ा में कक्षा चौथी का छात्र था।

1 COMMENT

  1. बहुत दुख की बात है ऐसी दुखदायी खबर हर दिन हर हफ्ते देखने को मिलती है उत्तराखण्ड प्रसासन को ऐशी घटनाओं पर सूझबूझ से खड़ा उतारना चाहिए ।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here