leopard-killed-by-hunter-in uttarakhand
Symbolic picture

पिथौरागढ़ : उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जनपद के चंडाक क्षेत्र में आतंक का पर्याय बन चुके आदमखोर तेंदुए को आखिरकार मार दिया गया है। तेंदुए ने इस क्षेत्र में एक महिला को मौत के घाट उतारने के साथ ही कई लोगों को घायल किया था। जिसके बाद बीते 25 सितम्बर को इस तेंदुए को आदमखोर घोषित कर दिया गया था। शुक्रवार रात शिकारी जॉय हुकिल ने आदमखोर तेंदुए को पपदेव गांव के भीतर ही मार गिराया। आदमखोर तेंदुए के मारे जाने से ग्रामीणों ने राहत का सांस ली है।

maneater-leopard-shot-down

शिकारी जॉय हुकिल ने बताया कि आदमखोर की पहचान करना काफी कठिन था क्योंकि इस इलाके में काफी तेंदुए हैं। शिकारी जॉय हुकिल का यह 33वां शिकार था। मारे गए तेंदुए का पोस्टमाटर्म कराकर शव को जला दिया गया है। हालाँकि उत्तराखंड के अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में अभी भी कई आदमखोर तेंदुए घूम रहे हैं। अभी 2 दिन पहले ही बागेश्वर जनपद के एक गाँव में घर के आंगन में अपने भाई के साथ किताब पढ़ रही पांच साल की बच्ची को आदमखोर तेंदुआ उठा ले गया था। इससे 4 दिन पहले भी पौड़ी जिले के पाबो क्षेत्र में आदमखोर तेंदुए ने एक 10 साल की मासूम बालिका को अपना निवाला बनाया था।

यह भी पढ़ें:

उत्तराखंड: पांच साल की बच्ची को घर के आंगन से उठा ले गया तेंदुआ, क्षत-विक्षत मिला शव

यह भी पढ़ें:

पौड़ी गढ़वाल: आदमखोर तेंदुए के हमले से 9 साल का भाई व 11साल की बहन बुरी तरह घायल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here