Largest-show-of-handicrafts

ग्रेटर नोएडा :  ग्रेटर नोएडा के इंडिया एक्सपो मार्ट में हस्शशिल्प उत्पादों का सबसे बड़ा शो दिल्ली फेयर बुधवार से शुरु हो गया। हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद (ईपीसीएच) द्वारा आयोजित पांच दिवसीय मेले का उद्घाटन केंद्रीय कपड़ा सचिव रवि कपूर ने किया। मेले में 3200 प्रदर्शकों द्वारा होम, लाइफ स्टाइल, फैशन फर्नीचर और टेक्सटाइल उत्पाद प्रदर्शित किए गए हैं। मेले में 110 देशों से आए विदेशी बॉयर्स एक ही छत के नीचे अपनी जरूरतों को पूरा करेंगे। उद्घाटन समारोह को सम्बोधित करते हुए कपड़ा सचिव रवि कपूर ने कहा कि देश में शिल्प की विरासत और स्किल्स को देखते हुए हैंडीक्रॉफ्ट निर्यात वर्तमान 26,590 करोड़ रूपये से एक लाख करोड़ तक पहुंचने की भरपूर संभावनाएं हैं। जिससे छोटे दस्तकार से लेकर बड़े स्तर के निर्यातकों तक हर कोई लाभान्वित हो सकता है। कपूर ने हैंडीक्रॉफ्ट पार्क खोलने, पर्यटन और क्रॉफ्ट को साथ लाने पर जोर दिया। इससे पर्यटकों को एक बेहतरीन अनुभव प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि महिला उद्यमियों और पहली पीढ़ी के उद्यमियों को जोड़कर तथा मेले को दस्तकार केंद्रित बनाकर इसमें आने वाले प्रदर्शकों की संख्या में कई गुना वृद्धि की जा सकती है। हैंडीक्रॉफ्ट इंडस्ट्री को सस्टेनेबल मॉडल पर लाकर प्रक्रिया को जीरो वेस्ट उत्पादन प्रक्रिया में बदला जा सकता है। कपड़ा सचिव ने अपैरल और हैंडलूम पार्क में हैंडीक्रॉफ्ट पार्क बनाने के ईपीसीएच के प्रस्ताव का स्वागत करते हुए इस बारे में अपने मंत्रालय के पूरे सहयोग और मार्गदर्शन का भरोसा दिलाया। उन्होंने कहा कि छोटी संगठित इकाइयों के बजाय इन पाकरे में उत्पादन होना लाभकारी तो होगा ही, साथ ही ऊपरी लागत में भी काफी कमी आएगी। वहीं ईपीसीएच के अध्यक्ष रवि के.पासी ने कहा कि हस्तशिल्प कारोबार तेजी से आगे बढ़ रहा है। विदेशी बॉयर्स की संख्या लगातर बढ़ रही है। इस मौके पर ईपीसीएच के अध्यक्ष रवि के.पासी, मेला प्रेसिडेंट सुनित जैन, मेला वाइस प्रेसिडेंट श्रीमती नीतू सिंह, रजत अस्थाना, रवींद्र मिगलानी, ईपीसीएच के उपाध्यक्ष सागर मेहता, महानिदेशक राकेश कुमार आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here